Thursday, 19 October 2017, 10:46 AM

धर्म कर्म

नवरात्र के छठे दिन, मनसा देवी में लगे मेले

Updated on 26 September, 2017, 12:53
आज नवरात्र के छठे दिन देवी कात्यायनी का पूजन होगा। इस शुभ दिन पंजाब केसरी की टीम आपको दर्शन करवाएगी मां मनसा देवी मंदिर के। शारदीय नवरात्रों के चलते मां के इस धाम में लाखों की संख्या में श्रद्धालु आते हैं। माता मनसा देवी से मांगी गई हर मुराद पूरी... आगे पढ़े

देगा दुश्मनों पर जीत

Updated on 26 September, 2017, 6:30
मंगलवार दि॰ 26.09.17 आश्विन शुक्ल छठी अर्थात शारदीय नवरात्रि के छठे दिन बृहस्पति ग्रह प्रधान देवी कात्यायिनी का पूजन किया जाएगा। देवी कात्यायिनी व्यक्ति की अधेड़ उम्र को संबोधित करती हैं। महर्षि कात्यायन की पुत्री रूप में जन्म लेने के कारण देवी के इस स्वरूप को कात्यायनी नाम मिला। कमल,... आगे पढ़े

गृहक्लेश और लाइलाज रोगों से देगा मुक्ति

Updated on 25 September, 2017, 7:15
सोमवार दि॰ 25.09.17 आश्विन शुक्ल पंचमी अर्थात शारदीय नवरात्र के पांचवें दिन बुद्ध ग्रह प्रधान देवी स्कंदमाता का पूजन किया जाएगा। देवी स्कंदमाता व्यक्ति की पैतृक भूमिका पर अपना आधिपत्य रखती हैं। सिंह पर सवार कार्तिकेय को गोद में उठाए, कमल पुष्प धारिणी देवी स्कंदमाता का वर्ण पूर्णत: शुभ है।... आगे पढ़े

नवरात्रि: ये शुभ संकेत बताते हैं, नवदुर्गा की आप पर है विशेष कृपा

Updated on 25 September, 2017, 5:30
पुराणों के अनुसार कुछ ऐसे संकेत हैं जिससे पता चलता है की नवदुर्गा के साथ-साथ समस्त ब्रह्माण्ड की शक्तियां भी आप पर मेहरबान हैं। शास्त्रों के अनुसार नवरात्र में कंजक पूजन का विशेष महत्व है। दो साल की कन्या से लेकर नौ वर्ष तक की कन्या को मां का स्वरूप... आगे पढ़े

हारे हुए नेता और कमजोर विद्यार्थियों के लिए खास

Updated on 24 September, 2017, 6:20
रविवार दि॰ 24.09.17 आश्विन शुक्ल चतुर्थी अर्थात शारदीय नवरात्र के चौथे दिन सूर्य ग्रह प्रधान देवी कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है। देवी कूष्माण्डा पुरुष के वीर्य व स्त्री के अंडाणु के मिलन अर्थात युग्मनज अर्थात गर्भावस्था पर अधिपत्य रखती हैं। सुवर्ण से सुशोभित सिंह वासनी देवी कूष्माण्डा का स्वरूप... आगे पढ़े

सौन्दर्य में निखार और लव लाइफ में आएगी बहार

Updated on 23 September, 2017, 5:30
शनिवार दि॰ 23.09.17 आश्विन शुक्ल तृतीया अर्थात शारदीय नवरात्रि के तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा का पूजन किया जाता है। शुक्र ग्रह प्रधान देवी चंद्रघंटा व्यक्ति के यौवन व प्रेम पर अधिपत्य रखती हैं। वीरमुद्रा में मस्तक पर घंटे नुमा अर्धचंद्र व चमकते तारे जैसा इनका रूप परम वैभवशाली है। अनेक... आगे पढ़े

नवरात्र: बरकत को घर में न्यौता देने के लिए करें ये उपाय

Updated on 22 September, 2017, 6:00
बृहस्पतिवार से आरंभ होने के कारण मां पालकी पर सवार होकर आ गई हैं। विद्वानों का मानना है की पालकी पर नव दुर्गा के आने का अर्थ है खर्च ज्यादा यानि इस लक्ष्मी अस्थिर रहने वाली है। आय से ज्यादा व्यय होगा, प्राकृतिक आपदा के योग भी बन रहे हैं।... आगे पढ़े

कालचक्र- मूर्ख भी बन सकते हैं सयाने

Updated on 22 September, 2017, 5:30
शुक्रवार दि॰ 22.09.17 आश्विन शुक्ल द्वितीया अर्थात शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन देवी ब्रह्मचारिणी पूजन किया जाता है। मंगल ग्रह प्रधान देवी ब्रह्मचारिणी व्यक्ति के बुद्धि पर अपना अधिपत्य रखती हैं। इनका खिलते कमल जैसा साक्षात ब्रह्मत्व स्वरूप महेश्वर के निमित तपोबल से ज्योर्तिमय। कालपुरूष व वास्तुपुरुष सिद्धांत के अनुसार... आगे पढ़े

वेश्यालय की मिट्टी से निर्मित होती है देवी प्रतिमा, क्यों ?

Updated on 21 September, 2017, 20:00
वेश्या का नाम लेना भी जहां सभ्य समाज में अच्छा नहीं माना जाता वहीं आपको जानकर हैरानी होगी कि नवरात्र में मां दुर्गा की प्रतिमा के निर्माण के लिए वेश्यालय की मिट्टी लायी जाती है। इस मिट्टी को मिलाकर देवी की प्रतिमा का निर्माण किया जाता है। इस बात का... आगे पढ़े

पालकी पर सवार होकर आई मां: बनेंगे प्राकृतिक आपदा के योग, जेब पर होगा वार

Updated on 21 September, 2017, 12:12
21 सितंबर बृहस्पतिवार से नवरात्र का आरंभ हो रहा है। नवरात्र में देवी किसी न किसी सवारी पर आती हैं? जिस दिन से नवरात्र प्रारंभ होते हैं, उसी दिन से तय होती है माता की सवारी। यूं हम सब लोग उनको शेरोंवाली कहते हैं और शेर पर सवारी उनको प्रिय... आगे पढ़े

नवदुर्गा को पसंद हैं ये चीजें, जानिए नवरात्रि के किस दिन क्या लगाएं भोग

Updated on 21 September, 2017, 5:45
21 सितंबर से नवरात्रि शुरू होने वाले हैं। नौ दिनों तक लोग अपने घरों में मां दुर्गा के नवस्वरूपों का पूजन कर व्रत रखते हैं। इन नौ दिनों में मां दुर्गा को भोग लगाया जाता है। यदि माता के नवस्वरूपों को उनका पसंदीदा भोग लगाया जाए तो मां का आशीर्वाद... आगे पढ़े

नौ दिन तक रखें यह पोटली, हो जाएगी सारी इच्छा पूरी

Updated on 20 September, 2017, 20:00
यदि आप परेशान हैं, काम नहीं बन रहे, हर तरफ से तिरस्कार-दुत्कार मिल रही है, व्यापार नहीं चल रहा, काम में मन नहीं लग रहा तो आप नवरात्र में एक उपाय कर लीजिए। भगवती की इच्छा से आपके सारे काम हो जाएंगे। हम आपको एक पोटली का रहस्य बता रहे... आगे पढ़े

नवरात्र से पहले ऐसे साफ करेें अपना मंदिर

Updated on 20 September, 2017, 8:00
नवरात्र शुरू होने ही वाले हैं और ऐसे में घर के मंदिर की साफ-सफाई करना बहुत जरूरी है। नवरात्र के उत्सव में नौ दिन तक देवी मां की पूजा की जाती है और लोग घर में भी बहुत शुद्धी बरतते हैं। कुछ घरों में अलग पूजा घर होता है और... आगे पढ़े

शारदीय नवरात्र 21 सितंबर से, शुभ मुहूर्त के साथ जानें पूजन विधि

Updated on 20 September, 2017, 4:45
हिंदू परिवारों में नवरात्रे के पहले दिन घट स्थापना की जाती है, जिसमें ज्वार अर्थात जौ अर्थात खेत्री बीजी जाती है। जौ जीवन में सुख और शांति का प्रतीक होते हैं क्योंकि देवियों के नौ रूपों में एक मां अन्नपूर्णा का रूप भी होता है। जौ की खेत्री का हरा-भरा... आगे पढ़े

अमावस्या: ऐसे करें धरती पर आए पितृगणों की आत्मा को विदा

Updated on 20 September, 2017, 4:30
वंशज अपने पुरखों को उनकी मृत्यु के उपरांत भुला न दें, इसलिए शास्त्रों ने पूर्वजों का श्राद्ध करने का विशिष्ट विधान बताया है। शास्त्रनुसार सर्वपितृ अमावस्या पितृगणों को विदा करने की अंतिम दिन है। शास्त्र ऐसा कहते हैं की सोलह दिन तक पितृ अपने वंशज के घर में विराजते हैं... आगे पढ़े

अमावस्या श्राद्ध पर इन्हें अवश्य करें घर पर Invite, पितर होंगे प्रसन्न

Updated on 19 September, 2017, 5:30
16 दिवसीय महालय श्राद्ध पक्ष कहलाता है। इस समय सूर्य देव कन्या राशि में स्थित होते हैं। इस अवसर पर चंद्रमा भी पृथ्वी के काफी निकट होता है। चंद्रमा के थोड़ा ऊपर पितृलोक माना गया है। सूर्य रश्मियों पर सवार होकर पितृ पृथ्वी लोक में अपने पुत्र-पौत्रों के यहां आते... आगे पढ़े

19-20 सितंबर कब पड़ रही है अमावस्या, जानें श्राद्ध मुहूर्त

Updated on 18 September, 2017, 15:45
आश्विन अमावस्या पितृगण के निमित विशेष पर्व है, जिसमें पितृ के लिए पिंडदान, तर्पण व श्राद्ध आदि करके व्यक्ति पितृ ऋण से मुक्ति पा सकता है तथा पितृ, मातृ, भ्रातृ, कन्या, पत्नी व प्रेत आदि ग्यारह श्रापों से मुक्ति पा सकता है। आश्विन अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या, पितृ विसर्जनी व... आगे पढ़े

19-20 सितंबर कब पड़ रही है अमावस्या, जानें श्राद्ध मुहूर्त

Updated on 18 September, 2017, 15:13
आश्विन अमावस्या पितृगण के निमित विशेष पर्व है, जिसमें पितृ के लिए पिंडदान, तर्पण व श्राद्ध आदि करके व्यक्ति पितृ ऋण से मुक्ति पा सकता है तथा पितृ, मातृ, भ्रातृ, कन्या, पत्नी व प्रेत आदि ग्यारह श्रापों से मुक्ति पा सकता है। आश्विन अमावस्या को सर्वपितृ अमावस्या, पितृ विसर्जनी व... आगे पढ़े

प्रतिदिन करें इस छोटे से मंत्र का जाप, अज्ञान अौर रोगों का होगा नाश

Updated on 18 September, 2017, 7:00
मंत्रों के जाप से व्यक्ति में सकारात्मकता का संचार होता है। मंत्र के जाप से हर प्रकार समस्या को दूर किया जा सकता है। सभी शास्‍त्रों में मंत्रों को बहुत ही शक्तिशाली और चमत्‍कारी माना जाता है। लेकिन सभी मंत्रों में 'गायत्री मंत्र' को वेदों का सर्वश्रेष्ठ मंत्र बताया गया... आगे पढ़े

इस समय आया सपना होता है सच, संकेतों से जानें भविष्य

Updated on 17 September, 2017, 7:10
हमारे प्राचीन ग्रंथों में स्वप्न विज्ञान को काफी महत्ता दी गई है। स्वप्न केवल मानसिक कल्पना नहीं अपितु परमात्मा की ओर से होने वाली घटनाओं के पूर्व संकेत हैं। प्राचीनकाल में रामायण में वर्णित है कि जब सीता जी श्रीराम के वियोग में अत्यंत दुखी थीं तब उनके निकट रहने... आगे पढ़े

परेशानी भरे दिन आने वाले हैं, यूं करते हैं शनि बदकिस्मती की ओर इशारा

Updated on 16 September, 2017, 5:45
ज्योतिष के अनुसार बार-बार जूते-चप्पल चोरी होना या खो जाना भी कुछ इशारा करता है। इनके खोने पर आर्थिक हानि तो होती है साथ ही यह शनि दोष की संभावना को भी व्यक्त करता है। क्या आप जानते हैं कि हमारे शरीर में शनि का वास पैरों में होता है?... आगे पढ़े

सृष्टिकर्ता ब्रह्मा के एक सिर का विनाश कैसे हुआ जानने के लिए पढ़ें ये कथा

Updated on 15 September, 2017, 6:45
शिव पुराण के अनुसार सृष्टि के प्रारंभ में ब्रह्मा व विष्णु में श्रेष्टता को लेकर विवाद हो गया। दोनों स्वयं को सबसे बड़ा सिद्ध करना चाहते थे। दोनों में से कौन अधिक बड़ा है इस बात पर बहस छिड गई। विवाद का फैसला करने के लिए परमेश्वर को साक्षी बनाया... आगे पढ़े

वीरभद्र मंदिर की गुत्थी दुनिया का कोई भी इंजीनियर आज तक सुलझा नहीं पाया

Updated on 14 September, 2017, 6:30
आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले के एक छोटे से ऐतिहासिक गांव लेपाक्षी में 16वीं शताब्दी का वीरभद्र मंदिर है। इसे लेपाक्षी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। यह रहस्यमयी मंदिर है जिसकी गुत्थी दुनिया का कोई भी इंजीनियर आज तक सुलझा नहीं पाया। ब्रिटेन के एक इंजीनियर ने... आगे पढ़े

महाभारत: आज से शुरू करें इन बातों पर अमल करना, उम्र में होगी वृद्धि

Updated on 14 September, 2017, 6:20
जो जीव धरती पर आया है उसकी मृत्यु निश्चित है। कुछ लोगों के भाग्य में कम या अधिक आयु होती है लेकिन कई अपने कर्मों अौर व्यवहार से अपनी उम्र को घटा देते है। महाभारत में बताया गया है कि किन कामों से आयु कम होती है अौर कौन से... आगे पढ़े

13 को है पितृपक्ष का सबसे शुभ दिन: दरिद्रता का होगा नाश, महालक्ष्मी भरेंगी भंडार

Updated on 13 September, 2017, 6:30
शास्त्रों में पितृपक्ष के दौरान सभी शुभ कार्य वर्जित कहे गए हैं। पितृपक्ष की समयावधि में नई वस्तुओं को खरीदना, नए कपड़े पहनना विवाह, नामकरण, गृहप्रवेश आदि जैसे काम भी वर्जित माने गए हैं परंतु पितृपक्ष के इन दिनों में अश्विन कृष्णपक्ष की अष्टमी का दिन विशिष्ट रूप से शुभ... आगे पढ़े

पितर ताली बजा बजा कर नृत्य करते हुए अपने परिजनों को आशीर्वाद देते हैं

Updated on 12 September, 2017, 5:30
श्रीमद्भागवत कथा वह अमृत है, जिसके रस का पान करने से ही मनुष्य भवसागर के आवागमन चक्र से मुक्त हो जाता है तथा जिस भावना तथा कामना से कोई कथा का श्रवण करता है उसे फिर किसी वस्तु की कमी नहीं रहती। श्रीमद्भागवत कथा तो वह कल्पवृक्ष है, जिससे कुछ... आगे पढ़े

ब्रह्माण्ड का सबसे बड़ा ग्रह लाएगा देश-दुनिया में भ्रष्टता के चरम

Updated on 11 September, 2017, 14:15
फलित के दार्शनिक मतानुसार बृहस्पति धर्म, ज्ञान, राजनीति, धन, समृद्धि, पुत्र व शिक्षा पर अपना आधिपत्य रखते हैं। कुंडली में श्रेष्ठ गुरु व्यक्ति को कष्टों से बचाकर समाजिक प्रभाव देता है। बृहस्पति तकरीबन 13 माह के बाद अपनी राशि बदल रहे है। देवगुरु मंगलवार दी॰ 12.09.17 को प्रातः 07 घं॰... आगे पढ़े

छठा श्राद्ध आज: श्राद्ध हेतु श्रेष्ठ हैं तीन मुहूर्त, जानें विधि

Updated on 11 September, 2017, 7:30
सोमवार दी॰ 11.09.17 आश्विन कृष्ण षष्ठी पर छठी का श्राद्ध मनाया जाएगा। मनुस्मृति में ऐसे लोग निंदित किए गए हैं जो अपने पितृगणों को भूल जाते हैं। शास्त्रनुसार सभी वर्णों व संप्रदायों में पितृयज्ञ करना अनिवार्य है। परंतु किसी कारण अगर श्राद्धकर्म छूट जाए तो उसके लिए गया श्राद्ध जैसे... आगे पढ़े

बालों में भी छुपे होते हैं किस्मत और पैसों के राज, जानिए कैसे

Updated on 10 September, 2017, 5:00
अगर आप जानना चाहते हैं कि आपकी किस्मत में पैसों का सुख कितना है या आपके पास भविष्य में पैसा रहेगा या नहीं, ये जानने का सबसे आसान तरीका है आपके बाल। बस आईने में एक बार गौर से देखें, आप खुद जान जाएंगे कि आपकी किस्मत में क्या लिखा... आगे पढ़े

पितृदोष होने पर भाग्यशाली होते हुए भी भाग्यहीन रहना पड़ता है, ये हैं संकेत

Updated on 10 September, 2017, 4:45
श्राद्ध का अर्थ है, पितृों के लिए उनकी आत्मा की तृप्ति के लिए श्रद्धापूर्वक किया गया दान। श्राद्धकर्म में होम, पिंडदान एवं तर्पण आदि सम्मिलित हैं। मृतात्मा की शांति के लिए जिन संस्कारों का विधान है, उन्हें श्राद्धकर्म कहा जाता है। मृत्यु के बाद दशरात्र और षोडशी-संपिंडन तक मृत व्यक्ति... आगे पढ़े