इन्दौर । कड़ावघाट पर 13 जोड़ों के 'इज्तेमाई शादी' में निकाह हुए। इन दूल्हा-दुल्हन के परिवार की आर्थिक स्थिति बेहद नाजुक है। संस्था ख्वाजा उस्मान हारूनी कमेटी ने धूमधाम से निकाह करवाकर गरीब परिवारों का दिल खुशियों से भर दिया। गौरतलब रहे यह संस्था पिछले 14 सालों से शहर में मुस्लिम समाज के लड़के लड़कियों की इज्तेमाई शादी का आयोजन कर रहे हैं। कल बम्बई बाजार से लेकर कड़ावघाट तक इसी की धूम रही। बम्बई बाजार जमाअत खाना से बारात का जुलूस निकाला गया। नूरानी कलाम पढ़ते हुए बारात निकाली। अयाज़ बेग ने बारातियों की अगवानी की। 
कमेटी के अध्यक्ष मास्टर सलीम लाईक ने बताया कि इस मौके पर मुफ़्ती-ए-मालवा मौलाना नूरुल हक़ नूरी, मौलाना अहमद यार खां, हाफ़िज़ अनवार रेहानी, मौलाना अब्दुल जब्बार अशरफी की निगरानी में निकाह हुए। जैसे ही 13 जोड़ों ने निकाह क़ुबूल किये माहौल में खुशियां बिखर गई। सभी ने गले मिलकर एक दूसरे को मुबारकबाद दी। इज्तेमाई शादी के इस आयोजन में बतौर खास मेहमान हाजी सोहराब पटेल, अयाज़ बेग, हाजी ज़ाहिद अली,युवा नेता रहीम खान, सूफी मुश्ताक़ बाबा, इमरान देहलवी, अलीम बाबा, हाजी सोहेल भाई गन्ने वाले, वहीद भाई, फ़ारूक़ राईन, मंज़ूर अहमद, ज़ाकिर देहलवी, आरिफ भाई बियाबानी वाले, सोहेल देहलवी, सैयद मुश्ताक़ अली, शकील अता, नोशाद अहमद, अक्कू भाई, साजिद रॉयल, ज़फ़र भाई, युसुफ मामा, फखरुद्दीन रज़वी बशीर ठेकेदार, जुनेद सोनी, जावेद देहलवी, पत्रकार नियामत खान, अमजद देहलवी, राजिक देहलवी, हिलाल अहमद, सलमान लाईक सहित अनेक गणमान्यजनों ने शिरकत की। कार्यक्रम का बेहतरीन संचालन ताहिर कमाल सिद्दीकी ने किया। सभी नवयुगलों को घर गृहस्थी का ज़रूरी सामान उपहार स्वरूप दिया गया। अतिथियों और संस्था सदस्यों की मौजूदगी में सभी दुल्हनों को एक बेटी की तरह पारिवारिक माहौल में विदा किया गया। इज्तेमाई शादी करवाने वाले  ख्वाजा उस्मान हारूनी कमेटी के अध्यक्ष मास्टर मोहम्मद सलीम लाईक ने बताया कि गरीब लोग शादी ब्याह के लिए कर्ज के दलदल में न फंसे इसलिए वह यह आयोजन करते हैं।