रांची । बड़ा तालाब में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति स्थापित करने का काम शुक्रवार से शुरू कर दिया गया। 33 फीट ऊंची स्वामी विवेकानंद की मूर्ति राज्य की सबसे बड़ी प्रतिमा होगी। मूर्ति की नींव पानी के अंदर है। अधिकारियों को बताया गया कि तालाब के सुंदरीकरण व मूर्ति स्थापित करने का काम 12 जनवरी के पहले पूरा कर लिया जायेगा। तालाब में स्थित दो टापुओं को आपस में जोड़ने के लिए ब्रिज का काम लगभग पूरा कर लिया गया है। दिसंबर के अंत तक ब्रिज पर आवाजाही की जा सकेगी। वहीं, तालाब के बाहर से टापू तक जाने के लिए भी ब्रिज निर्माण का तेजी से चल रहा है। जनवरी के पहले सप्ताह तक उसका काम भी पूरा कर लिया जायेगा। अधिकारियों ने काम कर रही कंपनी शापोरजी पालोनजी को समय पर काम पूरा करने के निर्देश दिये। कहा कि मुख्यमंत्री युवा दिवस के दिन 12 जनवरी को मूर्ति का अनावरण करेंगे. उसके पहले हर हाल में काम पूरा होना चाहिए।
बड़ा तालाब में मूर्ति तक पहुंचने के लिए किनारे से बीच टापू तक पुल तैयार किया जा रहा है। पुल के लिए बड़ा तालाब के पानी के अंदर कुल 142 पिलर खड़े कर दिये गये हैं। पिलरों पर ब्रिज बिछाने का काम अंतिम दौर पर है। बड़ा तालाब का सुंदरीकरण कार्य राज्य में अपनी तरह का पहला है। तालाब पर बनाये जा रहे दो ब्रिज और किनारों पर बनाये जा रहे पार्क इसकी खूबसूरती में चार चांद लगायेंगे। हालांकि, काम करनेवाली कंपनी उर्मिला कंस्ट्रक्शन की धीमी गति के कारण उसे बचा हुआ काम पूरा करने से रोका गया। इसके बाद विभाग ने शापोरजी पालोनजी को नामांकन के आधार पर कार्य सौंपा।