बिलासपुर । जिले के प्रभारी और गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने आज यहां मंथन सभाकक्ष में पुलिस विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक में उन्होंने कहा कि पुलिस की छवि ऐसी बनायें कि अपराधियों के मन में भय और जनता के मन में सम्मान रहे। उन्होंने एक कहावत का जिक्र करते हुए कहा कि पुलिस कर्मियों को गरीब की आह और अमीर की वाह कभी नहीं लेनी चाहिये। पुलिस महकमे को गरीब और कमजोर तबके के प्रति ज्यादा संवेदनशील होना पड़ेगा। गरीब और पीडि़त व्यक्ति की मदद करके आपको भी संतुष्टि मिलेगी। पीडि़त व्यक्ति थाना आकर तभी अपनी पीड़ा बता पायेगा जब पुलिस उससे नरम व्यवहार करेगी। उन्होंने सट्टा और नशे के कारोबार पर सख्ती से लगाम लगाने के निर्देश दिये। श्री साहू ने कहा कि पुलिस वेलफेयर के फंड का उपयोग छोटे कर्मचारियों की मदद में करें। यदि आवश्यक हो तो और पुलिस पेट्रोल पंप खोलने का प्रस्ताव भेजें। जिससे वेलफेयर फंड बढ़ाया जा सके। श्री साहू ने पुलिस इंटेलीजेंस सिस्टम को और मजबूत बनाने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि पुलिस को मुखबिरों से काफी पुख्ता जानकारियां मिलती है। मुखबिरों के जरिये अपराधियों तक जल्द पहुंचा जा सकता है। इसे और विश्वसनीय बनाएं। बैठक में बिलासपुर विधायक शैलेष पांडे ने कहा कि शहर में पुलिस कार्रवाई के तुरंत बाद अवैध हुक्का बार खुल जाते हैं। जिस पर रोक लगाने की आवश्यकता है। तखतपुर विधायक श्रीमती रश्मि सिंह ने कहा कि तिफरा ओवर ब्रिज संकरा होने की वजह से बहुत जाम लगता है। इसके लिये तिफरा रेलवे क्रॉसिंग फिर से आवागमन के लिये खोली जाये। बैठक में एसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि सरकंडा और सिविल लाईन थानों का क्षेत्र बहुत बड़ा है और बहुत अधिक प्रकरण हैं। दोनों थानों को विभाजित करके एक-एक और अलग थाने की आवश्यकता है। श्री अग्रवाल ने एसपी कार्यालय के लिये भी नवीन भवन की आवश्यकता बतायी है। बैठक में पुलिस महानिरीक्षक प्रदीप गुप्ता, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओ पी शर्मा, श्री ध्रुव एवं अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे।