नप गये नगरपालिका अनूपपुर के भृष्टाचारी,आपराधिक मामला दर्ज करने के आदेश

अनूपपुर - नगरपालिका अनूपपुर अक्सर सुर्खियों में रहने वाला अनूपपुर जिले का इकलौता नगरपालिका है इस नगरपालिका में कब कहाँ क्या हो जाये भगवान को भी सायद पता नही होता और   एक बार फिर नगरपालिका का ग्रह दोष जाग गया है और उसकी जद में श्रीमती आरती त्रिपाठी,अभिलाष त्रिपाठी,और आशीष शर्मा ,कमला कोल के ऊपर आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के आदेश संचालनालय नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग ने आदेश जारी कर एक तरफ जहां अभिलाष त्रिपाठी को उनके विरुद्ध उनकी संविदा शर्तों के अनुसार पद से पृथक करने की कार्यवाही करने जा रहा है,तो वही उनकी पत्नी श्रीमती आरती त्रिपाठी द्वारा सेवा से त्याग पत्र दिया जा चुका है इन सभी के खिलाफ वित्तिय अनियमितताओं एवं शासकीय धन के दुविर्नियोजन के लिए उत्तरदायी पाये गये है जिनके विरुद्ध आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के आदेश दिए गए है मामला राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के कार्यक्रमों में गंभीर वित्तिय अनियमितताएं की गई है जिसकी जांच चल रही थी और जांच में ये सभी दोषी पाये गये है
क्या है मामला :-  
वित्तीय अनियमितता व फर्जी भुगतान के इस मामले में एनयूएलएम के तत्कालीन प्रभारी अभिलाष त्रिपाठी एवं उनकी पत्नी आरती त्रिपाठी द्वारा फर्जी एनजीओ मातृ शक्ति और मातृभूमि तैयार कर फर्जी प्रशिक्षण के नाम पैसे की निकासी की है। जिसमें वित्तीय मामले से सम्बंधित अनेक मामले और सामने आये।उक्त मामले में उप संचालक नगरीय प्रशासन शहडोल ने मातृभूमि और मातृशक्ति की जांच और उसमे अभिलाष त्रिपाठी और आरती त्रिपाठी के साथ साथ तात्कालिन सीएमओ कमला कोल और आशीष शर्मा की भूमिका की जांच की और इस सभी की भूमिका प्रथम द्रष्टया संदिग्ध पाए गए जिस पर कलेक्टर अनूपपुर को इन सभी दोषी अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामला पंजीबद्ध करने के आदेश दिए है 
कौन है ये अधिकारी:- 
जिन अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज करने के आदेश अनूपपुर कलेक्टर को दिया गया है उनमें सबसे महत्वपूर्ण अनूपपुर नगरपालिका के पूर्व सीएमओ आशीष शर्मा है जिनका हाल ही में भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयन हुआ है तो दूसरी कमला कोल है जिनका हाल ही में राज्य शासन ने जिले के सबसे बड़ी नागरपालिका बिजुरी में पदस्थापना की है वही अभिलाष त्रिपाठी है जो वर्तमान में मैहर नगरपालिका में राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन में पदस्त है विभाग इनके विरुद्ध पद मुक्त करने की कार्यवाही कर रही है वही उनकी धर्म पत्नी आरती त्रिपाठी पहले ही अपने पद से स्तीफा दे चुकी है

शहरी आजीविका मिशन घोटाले में एफआईआर के आदेश 

 जांच उपरांत मामला सिद्ध पाए जाने पर अपर आयुक्त नगरीय प्रशासन,भोपाल ने कलेक्टर अनूपपुर से आरोपियों के विरुद्ध पुलिस प्रकरण दर्ज कराने को पत्र लिखा। प्राप्त जानकारी के अनुसार कलेक्टर ने डिप्टीकलेक्टर को एफ आई आर दर्ज कराने के निर्देश दिये हैं।
*** मामले से जुडे विभागीय सूत्रों के अनुसार अपर आयुक्त नगरीय प्रशासन एवं विकास विभाग भोपाल ने २५ जून २०१९ को एक पत्र क्रमांक शि / शा/६/ २०१९/ १११०४१ के द्वारा कलेक्टर अनूपपुर को कहा है कि संचालनालय नगरीय प्रशासन विकास विभाग भोपाल द्वारा संयुक्त संचालक नगरीय निकाय शहडोल की अध्यक्षता मे तीन सदस्यीय जांच टीम बना कर शहरी आजीविका मिशन नगरपालिका अनूपपुर के कार्यक्रम में गंभीर अनियमितता पाई गयी।
 जिस पर अनूपपुर कलेक्टर चन्द्र मोहन ठाकुर ने एफ आई आर दर्ज कराने के लिये डिप्टी कलेक्टर सिंघई को निर्देश दिये हैं। 
***   नगरपालिका अनूपपुर मे  एनजीओ के नाम करोडों रुपयों के घोटाले की जांच संयुक्तसंचालक नगरीय प्रशासक शहडोल की अध्यक्षता मे तीन सदस्यी टीम ने छापेमारी कार्रवाई की थी। जहां दीनदयाल अंत्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन से सम्बंधित कागजातों की छानबीन की गयी थी । जांच अधिकारी उपसंचालक नगरीय प्रशासन शहडोल आरपी सिंह ने तब  कहा था कि  इस सम्बंध में दो व्यक्तियों द्वारा शिकायत की गई थी। जिसमें एक भोपाल तथा दूसरा अनूपपुर निवासी है। शिकायत पर भोपाल संचालनालय द्वारा जारी निर्देश में यह जांच की गयी । इससे पहले भी एक अन्य मामले में उपसंचालक नगरीय प्रशासन शहडोल की टीम द्वारा जांच कार्रवाई करते हुए जांच रिपोर्ट भोपाल को भेजी गई है। साथ ही कहा कि उनमें शामिल लगभग १७ लोगों के खिलाफ आरोप पत्र जारी किए गए हैं। 
 *** विभागीय सूत्रों के अनुसार शहरी आजीविका मिशन अनूपपुर द्वारा वित्तीय अनियमितता व फर्जी भुगतान के मामले में एनयूएलएम  तत्कालीन प्रभारी एवं उनकी पत्नी द्वारा फर्जी एनजीओ मातृ शक्ति और मातृभूमि तैयार कर फर्जी प्रशिक्षण के नाम पैसे की निकासी की गयी। जांच मे मामला सिद्ध पाए जाने पर त्रिपाठी पति - पत्नी को नॊकरी से हाथ धोना पड रहा है तो दूसरी ओर पुलिस प्रकरण भी दर्ज किया जा रहा है।