महाराष्ट्र की राजनीति में अपने फेसबुक पोस्ट के जरिए हलचल मचाने वाली भाजपा नेता और पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे ने अब ट्विटर पर सनसनी मचा दी है। उन्होंने अपने ट्विटर बायो से अपनी पार्टी के नाम को हटा दिया है। इसके बाद उन्हें लेकर चल रही अटकलों ने तेजी पकड़ ली है। वहीं माना जा रहा है कि वह शिवसेना में शामिल हो सकती हैं इसका इशारा शिवसेना प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने दिया है। इससे पहले फेसबुक पोस्ट के जरिए उन्होंने कहा था कि वह जल्द कोई फैसला लेंगी।

फेसबुक पर बवाल के बाद ट्विटर पर किया बदलाव

पंकजा ने जब से फेसबुक पोस्ट किया था तभी से उनकी नाराजगी के बारे में बातें होने लगीं थी। इसके बाद से ही सवाल उठ रहे थे कि क्या वह देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ खुलकर अपना गुस्सा जाहिर करेंगी? सूत्रों का कहना है कि वरिष्ठ नेताओं के सामने अपनी समस्या को रखते समय उनका सारा गुस्सा फडणवीस के खिलाफ रहा है। ऐसे में उन्होंने फेसबुक के जरिए बड़ा फैसला लेने की बात की और अब ट्विटर बायो से पार्टी का नाम हटा लिया है। जिससे अफवाहें और चर्चाएं तेज हो गई हैं।

 

8-10 दिन में लूंगी फैसला

पंकजा ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि 12 दिसंबर को गोपीनाथ मुंडे की बरसी पर सभी समर्थकों से आवेदन है कि वे बैठक में शामिल हों। बदलते सियासी माहौल में अपनी ताकत पहचानने की जरूरत है, 8-10 के भीतर ही बड़ा फैसला लूंगी। उन्होंने लिखा कि चुनाव के बाद, नतीजें आए। मेरे हारने के कुछ समय बाद, मैंने मीडिया में जाकर इसे स्वीकार कर लिया और अनुरोध किया कि इसके लिए किसी को जिम्मेदार न ठहराया जाए। सारी जिम्मेदारी मेरी है। बता दें कि पंकजा मुंडे ने परली विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था। वह एनसीपी नेता और चचेरे भाई धनंजय मुंडे से हारी हैं।

हमारे संपर्क में हैं कई नेता

भाजपा की पूर्व मंत्री पंकजा मुंडे के शिवसेना में शामिल होने के सवाल पर संजय राउत ने कहा, 'कई नेता हमारे संपर्क में हैं।'