लंदन । उम्र बढ़ने के साथ शरीर कमजोर होने लगता है और कई तरह की समस्याएं होने लगती हैं। विशेषज्ञों के अनुसार बढ़ती उम्र के साथ ही हमारे दांत भी कमजोर होने लगते हैं और अगर ध्यान न दिया जाए तो दांत गिरने भी लगते हैं। सांसों की बदबू हो या फिर मसूड़ों की समस्या, इन समस्याओं को नजरअंदाज न करें। दांतों को स्वस्थ रखने और कैविटी से बचाने में फ्लोराइड की भूमिका अहम होती है। इसके अलावा फ्लोराइड टूथ इनैमल बनाने में भी मदद करता है। सलाइवा (लार) दांतों को स्वस्थ और मजबूत रखने में मदद करता है। अगर मुंह सूखा रहे, तो दांतों और मसूड़ों के बीच मौजूद ये सलाइवा खत्म हो जाता है, जिससे दांत कमजोर होने लगते हैं। आपके खानपान की भूमिका दांतों की सेहत के लिए काफी अहम होती है। खाने में मौजूद विटमिन डी और कैल्शियम दांतों को मजबूत बनाता है, इसलिए ऐसा खाना खाएं जिसमें इनकी मात्रा ज्यादा हो। दांतों को स्वस्थ रखने में टूथब्रश की भूमिका भी बहुत अहम होती है। टूथब्रश अगर अच्छा हो तो दांतों की सफाई भी अच्छे से होती है, लेकिन अगर खराब गुणवत्ता वाला ब्रश हो तो इससे मसूड़ों को भी समस्या हो सकती है। आपको यह जानकार हैरानी होगी कि मुंह से संबंधित बीमारियां आपके दिल को भी प्रभावित करती हैं।