भोपाल। आज देश में हर जगह चाय पर चर्चा होती है। हो भी क्यों नहीं। देश की राजनीति यहीं से शुरू होती है। सुबह के समय चाय के साथ अखबार की सुर्खियां पढऩे और देखने को मिलती है। 
वैसे चाय की बात हो रही है आज हम भारत के ऐसे शहर के बारे में बताने जा रहे है जहां अनोखी चाय मिलती है। जी हां, ये सच है। वैसे तो आप जानते है कि मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल तहजीब और रवायतों का शहर कहा जाता है। 

ये शहर सभी तरह के जायकों के लिए भी प्रसिद्ध है। यहां की नमक वाली चाय आज इस शहर की पहचान बन चुकी है।शाम ढलते ही पुराने भोपाल में वर्षों पुरानी चाय की कुछ दुकानों में हुजूम उमड़ पड़ता है और शुरू हो जाता है चुस्कियों का सिलसिला, जो आधी रात तक चलता है। ये वो नमक वाली चाय है, जो आज भोपाल के जायके का नाम बन चुकी है। इस चाय का इतिहास भी बेहद दिलचस्प है। ऐसा बताया जाता है कि भोपाल की बेगम सिकंदर एक बार तुर्की गईं थीं और वहां से वे इस नमक वाली चाय की रेसीपी लेकर आईं। 

बाद में पंजाब के महाराजा रंजीत सिंह ने भी नवाब हमीदुल्लाह को एक विशेष चाय के जायके का राज बताया और इस तरह भोपाल की प्रसिद्ध नमक वाली चाय धीरे-धीरे नवाबों के महल में और फिर वहां से निकल कर शहर के कई होटलों में पहुंची गई और आज यह लोगों की आदत बन गई है।