विधायक सुनील सराफ को मीडिया फोबिया
अनूपपुर - विधायक जी ये किस्मत का   राज योग मिला है और इसपे इतना इतराना कैसा आज है कल नही रहेगी सत्ता पर आज आप की सरकार और सरकार के मंत्रियों की उपस्थिति में आज आप ने जो किया वो बेहद शर्मनाक ही नही आपत्तिजनक था, और ऐसा लगा कि आप के अपशब्दों को सरकार का समर्थन प्राप्त था  तभी आप के द्वारा कहे गए मीडिया कर्मियों को अपशब्दों के लिए न आप के सरकार के मंत्री और न आप के सरकार के मुखिया खंडन किया इसका मतलब यही है कि समस्त कॉंग्रेस सरकार को मीडिया के प्रति यही धारणा रखते है 
आज प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का आगमन अनूपपुर हुआ पर कॉंग्रेस की आपसी खींचतान ने पूरे कार्यक्रम के दौरान कमल करीबी होने की होड़ में चला, तो वही कोतमा विधायक सुनील सराफ ने आज जो अपने भाषण में कहा हो बेहद शर्मनाक तो था ही बता दिया कि नया मुल्ला प्याज बहुत खाता है, और सुनील सराफ जिस मीडिया के सामने अपनी फोटो छपास के आदी है और आये दिन शोसल मीडिया और व्हाटसअप पे फ़ोटो फोबिया का नजारा दिखाते दिखाई देते है, और आज कुर्सी मिलने के बाद गिरगिट की भांति रंग बदल कर आज भरे मंच से मीडिया को अपशब्दों से नवाजा बताता है कि सुनील सराफ को विधायकी सवार हो गई है, विधायक जी आप को जनता ने चुना है और आप जनता के सेवक है कोई भगवान नही, और रही मीडिया की बात तो आज जो आपने कहा कि मीडिया वालों से दूर रहे सब झोला ले कर चले आते है ये सब मैनेज है विधायक जी आप ही बता दें कितने मीडिया कर्मियों को आप ने खरीदा है, और कितने मीडिया कर्मी आप से मैनेज हुए और आज आप जहां है

 वहां से इस तरह के शब्द मीडिया के लिए आपत्तिजनक है, जिसकी हम मीडिया कर्मी भर्त्सना करते है और ईश्वर से प्रार्थना करते है कि यूँ ही आप झोला ले कर आप के पास आने वाली मीडिया कर्मियों को मैनेज करते रहे पर  सभी मीडिया कर्मी मैनेज वाले नही होते हां झोला उनके पास होता है उसके पीछे की वजह उनके इक़्क़युपमेंट होते है, जिसके बिना मीडिया कर्मी अधूरे होते है और आप भाजपा को गाली बके और जिन मीडिया कर्मियों को आप मैनेज करते हो उन्हें कुछ भी बोलें पर सभी मीडिया कर्मियों को भरे मंच से अपशब्द कहना आप को सोभा नही देता या फिर आप सत्ता के मद में चूर है या किस्मत में राजयोग लिखा था और आप विधायक तो बन गए पर आप सामने वाले को तुच्छ और कीड़ा मकोड़ा समझते है यही आप का बड़प्पन है पर आप के द्वारा भरे मंच से मीडिया का जिस तरह से अपमान किया गया उम्मीद ही नही अपितु पूर्ण विश्वास है आप कभी भी किसी ईमानदार मीडिया कर्मी को अपने पास कभी नही बुलाएंगे और न ही कभी कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे क्यों कि आप को झोला छाप मीडिया से परहेज करना चाहिए क्यों कि आज के सभी मीडिया आप की नजर में मैनेज मीडिया है