कल तक पेपर में फोटो के लिए तरसने वाले आज मीडिया को कह रहे बिकाऊ- आशुतोष सिंह की नजर

कहते हैं न् नया मुल्ला ज्यादा प्याज खाता है ....... जी हां हम बात कर रहे हैं सपनो में भी विधायक की कुर्शी तक अपनी पहुंच न् बना पाने वाले अब के विधायक सुनील सराफ की.......... जिन्होंने आज प्रदेश के मुखिया कमलनाथ के सामने अपना सम्बोधन जनता के चरणों मे शीश जैसे शब्दों से शुरू कर...... अंत से पहले ही उन्ही जनता के बीच रहने वाले मीडिया के बैग को बिकाऊ कह दिया..........अरे आपको जानकर आश्चर्य होगा ये वही हैं..... .... विधायक सुनील सराफ  जिन्हें जनता पार्षद जैसे चुनाव में भी नकार चुकी थी........... .मौका मिला किस्मत ने साथ दिया महाशय विधायक बन गये..........। 
आखिर कब तक .........?
जिस जनता ने चुना उसमें मीडिया कर्मी का परिवार भी कुछ  सहभागी हो सकता है।।     
.........जनता बनाना और उतारना दोनो जानती है महाशय विधायक,,,,,,
किस्मत से मिली विधायकी तो जबरिया दिखा रहे अपना बड़ा कद।............
अरे सराफ जी आप शरीफ तो बन जाइये...........?
आप भूलें नही कोतमा के स्व. शंकर सिंह चंदेल को जिनके दरबार मे आप मत्था टेक कांग्रेश में शामिल हुए थे............आप ये भी न् भूलें आप पार्षद भी नही बन पाए थे........  आखिर क्यों  ?
जरा सोचें आप विधायक कैसे बन गए...........?
आप बहुत बड़े नेता हो गए हैं न् अपनी नजर से मीडिया पर बिकाऊ होने का इल्जाम भी लगा दिया है ........... !
जरा ये भी बता दो फेशबुकिया नेता, विधायक आपने विधानसभा चुनाव में कितनो का बैग भरा था..........?
दम है तो नाम भी बताओ.......?
अपनी छोटी सोच से सभी को मत आंको....... ये जिला है, संभाग है, संसदीय छेत्र है, तुम्हारे सामने प्रदेश का मुखिया है आपकी तुच्छ अक्ल के हिसाब से सिर्फ कुछ लोग नही...... !
आप हो कौन........? जो मीडिया को बिकाऊ कह सको.........? अरे आप तो खुद अपनी चुनाव में फंडिंग करने वालों के लिए प्रसाशनिक तंत्र पर आए दिन दबाव बनाते दिखाई दे रहे हो.........।
आप अपने सफेद चमकते कुर्ते के साथ ऐसे ही बड़बोले पन के दिखाते रहिये जनता आपको आईना दिखा ही देगी..........।
आप समहल कर रहना जनता कपड़े उतारना ही नही रामदेव जैसे आदमी को सलवार कुर्ता पहनाना भी जानती है........।
और उनके सामने आप हो कौन...........? 
आप क्या...? इस देश के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति भी पहले आम नागरिक ही होता है।
ज्यादा मत गुरूर करें अपनी विधायकी पर........ ये प्रजा तंत्र है...... आप खुद नही जानते थे कभी विधायक बन पाओगे पर किस्मत ने साथ दिया और आप विधायक बना गये..........! अब आगे भी यही करते रहिये जनता आपको तब भी जिंदगी जीने के लिए पेंशन देगी............!
देश का कानून है अपनी गलती कि सजा जिंदगी भर भुगतनी पड़ती है...........।
बस आप इसी रास्ते मे चलिए.....................
शुभकामना .......✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻✍🏻