क्या 99 के चक्कर मे फंसेगी कांग्रेस,या कमल बाबू करेंगे कमल को धरासाई
अनूपपुर - मध्यप्रदेश की राजनीति में लगातार मची उठापठक के बीच आखिर कार सुप्रीम कोर्ट के सुप्रीम फैसले के बाद अब विधानसभा के पटल पर आ पहुंचा है,अब देखना यह है कि कल शाम के पहले कॉंग्रेस क्या 99 के चक्कर मे फंसेगी या कमल नाथ कमल को धरासाई कर पाएंगे ये तो कल विधान सभा के फ्लोर टेस्ट से सामने आ पायेगा हम 99 का चक्कर की बात इसलिए कर रहे है क्यों कि अभी तक 16 बागी विधायकों के बागी होने के बाद कॉंग्रेस के पास निर्दलीय,सपा, बहुजन समजा वादी पार्टी के सदस्यों को मिला कर कुल 99 का आंकड़ा पहुंचता है जो बहुमत से कम है अब मध्यप्रदेश की पूरी राजनीत उन 16 बागी विधायकों पर टिकी हुई है जो कांग्रेस से बागी हो बैंगलुरु में राजनीति की असल उठापठक की वजह बन हुए है सुप्रीम कोर्ट ने इन बागी विधायकों के मद्देनजर भी फैसला दिया है कि अगर वो आना चाहे तो मध्यप्रदेश और कर्नाटक dgp उन्हें सुरक्षा दें पर पूरे घटना क्रम को देख जाए तो लगता नही की ये 16 बागी विधायक आने वाले है क्यों कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश में भी आने के लिए इन्हें बाध्य नही किया गया बहरहाल अब सभी की निगाहें कल होने वाले फ्लोर टेस्ट पर टिकी हुई है जिसके बाद मध्यप्रदेश की नई सरकार तय होगी चाहे वो कांग्रेस की हो या भाजपा की ये तो कल ही साफ हो पायेगा फिलहाल अभी तो कांग्रेस को 99 के चक्कर से बचने के लिए जुगत लगाने की रात है