रायपुर । प्रदेश में इस साल समर्थन मूल्य पर धान खरीदी 15 नवंबर से शुरू हो सकती है। इसके लिए प्रशासनिक स्तर पर तैयारी की जा रही है। प्रशासन बारदाने आदि की व्यवस्था में लगे हुए। हालांकि जनप्रतिनिधि और प्रशासनिक अधिकारी ने कब से धान खरीदी होगी वह फिलहाल स्पष्ट नहीं की है। दूसरी ओर प्रदेश के किसान संघों ने 15 नवंबर से धान खरीदी की मांग की जा रही है। किसानों का कहना है कि प्रदेश में दशहरा के बाद धान की कटाई शुरू हो जाती है।

ऐसे में शासन-प्रशासन को 15 नवंबर से धान की खरीदी की जानी चाहिए। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में खरीफ फसल समर्थन मूल्य में धान की खरीदी पिछले साल एक दिसंबर से शुरू की थी। बता दें कि पिछले साल भी किसान संघों ने एक नवंबर से धान की खरीदी की मांग की थी। वहीं भारतीय जनता पार्टी ने भी एक दिसंबर से धान खरीदी को लेकर कांग्रेस सरकार पर सवाल उठाए थे।

कई समस्याओं के निराकरण के संबंध में हुई चर्चा

विगत दिनों अपेक्स बैंक के अध्यक्ष बैजनाथ चंद्राकर ने सहकारी केंद्रीय बैंक के अध्यक्षों की बैठक ली थी। बैजनाथ ने बताया कि बैठक में धान खरीदी सोसायटियों में कमीशन बढ़ाने, उपार्जन केंद्रों की विसंगतियों, भंडारण सुरक्षा, विपणन संघ द्वारा उठाव, शार्टेज, कर्मचारियों की भर्ती आदि की समस्याओं के निराकरण के संबंध चर्चा की। इसके बाद कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन मंत्री मो. अकबर को प्रतिनिधि मंडल ने प्रतिवेदन प्रस्तुत किया था। जहां प्रतिवेदन में मांग किया है कि प्रदेश में 15 नवंबर से धान की खरीदी की जाए।

बारदाने की समस्या से जूझा था किसान

पिछले साल धान खरीदी को लेकर प्रदेश में समितियों में बारदाने की समस्या के कारण किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ा था। इस साल शासन ने बारदाने की संकट से निपटाने के लिए अगस्त महीने से बारदाने की आपूर्ति बनाए रखने के लिए तैयारी शुरू की है।