एक हफ्ते में दूसरा प्रवासी निकला पॉसिटिव,नासिक से ट्रक,ऑटो और मैजिक बाइक की मदद से पहुंचा था गांव गांव के चौतरफा सीमाओं को किया सील,कांटेक्ट लिस्ट जनों का कराएंगे परीक्षण कोरोना मरीज को देर रात लाये जिला अस्पताल,अब जिले में दो मरीज पॉजिटिव@मानपुर से विजय द्विवेदी की रिपोर्ट

मानपुर से 8 किमी दूर छपडौर पंचायत में पॉसिटिव मरीज ट्रेस होने के बाद पूरे गांव छपडौर व देवरी को कन्टेन्टमेंट जोन घोषित किया गया है,पंचायत की चौतरफा सीमा को पूरी तरह सील कर दिया गया है।कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी ने बताया कि पॉसिटिव मरीज के परिवार जनों को होम कोरेंटीन किया गया है,और युवा मरीज को जिला अस्पताल में आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कर इलाज किया जा रहा है,हालांकि मरीज को या उनके परिवार को फिलहाल कोरोना के कोई सिम्टम्स नही है,हालांकि युवा मरीज की जांच रिपोर्ट पॉसिटिव आई है।मरीज के गृह ग्राम छपडौर को कन्टेन्टमेंट जोन घोषित किया गया है,गांव की सीमाओं को पूरी तरह लॉक किया गया है।ज़रूरी सामग्री या किसी अनिवार्य ज़रूरतों को लेकर सीमा के बाहरी क्षेत्र में कोई जाता है तो उसकी पूरी जानकारी ली जाएगी,उन्होंने यह भी बताया कि पॉसिटिव मरीज के प्राथमिक दृष्ट्या प्राइमरी कांटेक्ट के रूप में 5 लोग आए है,इसके अलावा 28 अन्य सेकंडरी कांटेक्ट में है,इन सभी का परीक्षण किया जाना है।विदित हो कि मानपुर थाना अंतर्गत पॉसिटिव मरीज महाराष्ट्र के नासिक से ट्रक के माध्यम से कटनी से पहले तक पहुंचा था,वहाँ आटो में सवार होकर कटनी पहुंचा था,कटनी से कुछ दूर पैदल चलकर मैजिक में सवार होकर बरही से मानपुर पहुंचा था,और फिर अपने दोस्तों की मदद से बाईक में सवार होकर ग्रह ग्राम पहुंचा था।हलाकि पुलिस ट्रवल हिस्ट्री खगाल रही हैं 

ऑक्सिजन युक्त होंगे 30 बेड

जिले के दोनो पॉसिटिव मरीज़ों को फिलहाल आज कोविड 19 वार्ड से पृथक कर एक्सरे वार्ड के सामने आइसोलेट कर इलाज किया जा रहा है,जिस वजह से जिला अस्पताल स्थित एक्सरे वार्ड बन्द दिखा, वही ऑर्थो सम्बन्धी मरीजों को एक्सरे कराने थोड़ी दिक्क्क्त का सामना करना पड़ा।दरअसल जिला अस्पताल स्थित कोविड 19 वार्ड में शासन के मंशानुरूप 30 बेड ऑक्सिजन युक्त बनाये जा रहे है,इसके अलावा 10 बेड आईसीयू के बनेंगे।कोविड 19 वार्ड में मेंटेनेन्स के चलते कोविड 19 पॉसिटिव दोनो मरीज़ों को एक्सरे के सामने कैंसर वार्ड में रखा गया है।विदित हो कि हफ्ते भर पहले मुंबई से आये पाली जनपद अंतर्गत युवक के पॉसिटिव की खबर ने पूरे जिले को ख़ौफ़ज़दा कर दिया था,अब दूसरे मरीज का मुंबई से आकर परीक्षण उपरांत चिन्हित होने से जिले के बाशिंदों में दहशत का माहौल है।ज़रूरी है कि जिले में हजारों की तादात में आये प्रवासी मजदूरों के स्वास्थ्य परीक्षण पर लगातार नज़र रखने की ज़रूरत है,और इन्हें फिलहाल 21 दिनों के लिए होम कोरेंटिन या कोरेंटीन सेंटर पर कड़ाई से रखने की ज़रूरत है,नही तो जिले में प्रवासी मजदूरों की दस्तक जिले को रेड जोन में कब तब्दील कर देगा पता नही चलेगा।