कोरोना संकट की इस घड़ी में डॉ विनय सहस्त्रबुद्धे और उनके साथी मिसाल हैं  - प्रताप सारंगी 
दिल्ली :-केंद्रीय राज्य मंत्री प्रताप सारंगी ने रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी मुंबई और कनेक्टिंग ड्रीम फांउडेशन दिल्ली  के संयुक्त प्रयास से कोरोना के विरुद्ध शुरू हुए  cowinactionnetwork.in को कारगर और सही समय पर उठाया, सही कदम बताया । सारंगी ने राज्यसभा सांसद और प्रबोधिनी के वाइसचेयरमैन डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे के लॉकडाउन के दौरान  की गई इस पहल को दूरदृष्टि से भरा और देश को एकजुट करने वाला कदम बताया । उनके नेतृत्व में जुड़े हजारों वॉलेंटियर्स  के प्रयासों को देखकर वो इस बात से आश्वस्त है कि अब गरीब को दर-दर रोटी,दवा और अन्य जरूरी सामानों  के लिए नहीं भटकना नहीं पड़ेगा । ऑनलाइन एक्टिव को-विन वॉरियर की जागरूरता  इस बात का प्रमाण है । 
केंद्रीय राज्य मंत्री सारंगी को इस नेटवर्क के बारे में तब पता चला जब वो देशभर में फंसे उड़ीसा के मजदूरों के लिए प्रयासरत थे । बतौर मंत्री सरकारी संसाधनों को एक्टिव करने की कोशिश में थे, जिसके लिए उन्हें अलग -अलग राज्यों  में स्थानीय स्तर पर प्रयास करना पड़ता । लेकिन जैसे ही वो कोविन एक्शन नेटवर्क के संपर्क में आये उन्हें तसल्ली हो गयी कि इस मंच से वो अपने से जुड़े हर जरूरतमंत तक समाधान पहुंचाया सकते है । 
इंडिया को-विन एक्शन नेटवर्क ( आईकैन ) को जैसे ही सारंगी ने सात राज्यों में फंसे उड़ीसा के लोगों की मुश्किलों से अवगत कराया । आईकैन की टीम ने फौरन इसके लिए अलग से एक वॉर रूम बनाया क्योंकि उत्तरप्रदेश, तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, गुजरात, दिल्ली और मध्यप्रदेश में इनकी तादाद 2300 से ज्यादा थी । वॉररूम से निर्देश मिलते ही वॉलेंटियर्स ने फौरन इनके खाने-पीने, दवा और बाकी अन्य सामानों का इंतजाम किया ताकि  लॉकडाउन में इन लोगों को भटकना ना पड़े और नियमों का पालन होता रहे । अपने प्रदेश के लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित देखकर सारंगी अब निश्चित है कि अब वो देश में संक्रमण से निपटने के बाकी उपायों पर ध्यान दे सकते हैं ।
अपने वीडियो संदेश में केंद्रीय राज्य मंत्री ने नेटवर्क को लोगों के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया और इस विजन को वैज्ञानिक और सार्थक बताया ।