पटना. सातवें और अंतिम चरण के लिए रविवार सुबह सात बजे से बिहार के आठ सीटों पर मतदान शुरू हो गया। वेटनरी कॉलेज में बने मतदान केंद्र (बूथ संख्या 160) पर तेजप्रताप यादव वोट डालने पहुंचे। इस दौरान उसकी कार का पहिया फोटोग्राफर के पैर पर चढ़ गया। बचाव में फोटोग्राफर ने खिड़की पर हाथ मारा, जिससे कांच टूट गया। तेजप्रताप के बाउंसरों ने फोटोग्राफर को पीटा। साथी मीडियाकर्मियों ने बीच-बचाव कर मामले को शांत किया। इसके बाद तेजप्रताप ने कहा कि उनपर जानलेवा हमला हुआ है। 

नीतीश ने कहा- इतना लंबा नहीं होना चाहिए चुनाव

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजभवन के पास स्थित मतदान केंद्र पर बेटे निशांत के साथ वोट डाला। वोट डालने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि चुनाव इतना लंबा नहीं होना चाहिए। दो चरण के बीच लंबा गैप था। इस संबंध में विचार-विमर्श करने के लिए सर्वदलीय बैठक होनी चाहिए। सर्वसहमति के लिए मैं सभी दलों के नेताओं को पत्र लिखूंगा। इतनी ज्यादा गर्मी है। पोलिंग बूथ पर वोटरों के लिए छांव की व्यवस्था की नहीं होती। लोगों को तेज धूप में वोट डालना पड़ता है। चुनाव फरवरी-मार्च या अक्टूबर-नवंबर में होना चाहिए। कम से कम चरण में चुनाव हो। इस मामले में सभी लोग एकमत हो जाएं तो बहुत अच्छा होगा। चुनाव प्रचार के दौरान मैंने अपने काम लोगों को गिनाए हैं। केंद्र सरकार ने जो सहायता कि है उसकी भी चर्चा की है। हमारी ख्वाहिश तो यही है कि फिर से एनडीए की सरकार बने। 

 

पटना जिले के पालीगंज में बूथ संख्या 101 और 102 पर ग्रामीणों ने पथराव किया। उग्र लोगों ने ईवीएम तोड़ दिया। 
पटना के बूथ नं. 160 पर मतदान करने राबड़ी देवी और मीसा भारती पहुंची। राबड़ी ने कहा कि नीतीश कुमार ने जनता को भ्रमित किया है। जनता जवाब देगी। नीतीश कुमार साध्वी प्रज्ञा के बयान की निंदा करते हैं। उन्हें इतनी ही तकलीफ है तो सरकार से अलग हो जाना चाहिए था। उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए था।
ग्रामीणों ने नालंदा जिले के राजगीर के चंदौरा में बीडीओ रंजन लाल निगम के साथ मारपीट की और उनकी गाड़ी को तोड़ दिया। वे मतदान का बहिष्कार करने वालों को समझाने गए थे। 
आरा के बड़हरा के एकौना में बूथ संख्या 49 और 50 पर पुलिस पर पथराव हुआ है। पथराव से एक सिपाही का सिर फट गया। एक एएसआई भी घायल हुए हैं। हंगामा बोगस वोट डालने को लेकर हुआ। पथराव के चलते मौके पर अफरा-तफरी मच गई। इसके चलते मतदान बाधित हुआ।
भोजपुर जिले के बड़हरा में स्थित बूथ संख्या 99 पर विधायक सनोज यादव के पिता और विधायक समर्थकों के साथ पुलिस के बीच झड़प हुई। हंगामे के चलते कुछ देर तक अफरा-तफरी मची रही।
चुनाव आयोग द्वारा दिए गए मतदाता पर्ची में राजद नेता तेजस्वी यादव की फोटो बदली मिली। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच.आर. श्रीनिवास ने डीएम को मामले की जांच करने का आदेश दिया है।
उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने पटना के राजेंद्रनगर स्थिति बूथ नं. 49 पर मतदान किया। वोट डालने के बाद उन्होंने पुराने दिनों को याद दिलाया। कहा कि पहले चुनाव के दौरान हिंसा होती थी। बूथ कैप्चरिंग शब्द बिहार की देन है। राजद और कांग्रेस के लोग बूथ लूटते थे। मैं टी. एन. शेषन को धन्यवाद देता हूं, जिनके चलते इसपर लगाम लगा। आज चुनाव शांतिपूर्ण तरीके से हो रहा है। ईवीएम पर सवाल उठाकर वे फिर से बैलट पेपर वाले दिन लाना चाहते हैं, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।
पटना सिटी के मध्य विद्यालय मिर्दहा टोली में स्थित बूथ नंबर 30, 31 और 32 का ईवीएम खराब। 
पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र के मालसलामी में बूथ संख्या 272 पर ईवीएम खराब हो गया है। दीघा के बूथ नं. 50 पर भी ईवीएम खराब।
वोटिंग प्रतिशत

समय    
पटना

साहिब

पाटिल

पुत्र

आरा    नालंदा    बक्सर    
सासा

राम

कारा

काट

जहाना

बाद

8    2.5    2.7    4    4    4    6.7    5    6
9    4.6    4.8    9    8.5    7.5    9.3    11    11
10    9.8    11.3    13    14    12.7    13.1    16    12.7
11    15.8    20.7    17.6    17.6    16.8    17.4    18    26
12    22.86    27.4    21.13    23.43    23    24.3    25    35
1    28    38.45    30    30.2    32.8    32.2    32    36
157 प्रत्याशी मैदान हैं मैदान में

सातवें चरण में 157 प्रत्याशी मैदान में हैं। जिसमें 137 पुरुष तथा 20 महिला प्रत्याशी हैं। इसमें पटना साहिब और पाटलिपुत्र पर सबकी नजर हैं। पटना से भाजपा छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए शत्रुघ्न सिन्हा भाजपा से केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को चुनौती दे रहे हैं। वहीं, पाटलिपुत्र सीट से भाजपा प्रत्याशी रामकृपाल यादव का मुकाबला राजद की मीसा भारती से हैं।

इस चरण में पटना साहिब, पाटिलपुत्र, आरा, नालंदा, बक्सर, सासाराम, काराकाट और जहानाबाद में वोटिंग होगी। नालंदा, पटना साहिब, आरा, बक्सर, जहानाबाद में सुबह 7 से शाम 6 बजे तक मतदान होगा। वहीं, पाटलिपुत्र के मसौढ़ी और पालीगंज, सासाराम के भभुआ, चैनपुर, चेनारी और सासाराम तथा काराकाट के डिहरी, काराकाट, गोह और नवीनगर विधानसभा क्षेत्रों में सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक वोट डाले जाएंगे । आठों निर्वाचन क्षेत्र में 1 करोड़ 52 लाख 52 हजार 608 मतदाता हैं। पुरुष मतदाताओं की संख्या 80.38 लाख तथा जबकि महिला मतदाताओं की संख्या 71.53 लाख है।

एक नजर में आठ सीटें-

पटना साहिब: सातवें चरण की सबसे हाई प्रोफाइल सीट पटना साहिब है। यहां, भाजपा छोड़कर कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे शत्रुघ्न सिन्हा का मुकाबला भाजपा के केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से हैं। यहां से शत्रुघ्न 2009 और 2014 में भाजपा के टिकट पर सांसद बने थे। दूसरी ओर राज्यसभा सांसद रविशंकर प्रसाद अपना पहला लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं।

पाटलिपुत्र: पाटलिपुत्र से भाजपा प्रत्याशी रामकृपाल यादव को राजद की मीसा भारती टक्टर दे रहीं हैं। मीसा की जीत के लिए लालू परिवार ने पूरी ताकत लगा दी है। राबड़ी देवी ने कई बार बेटी के साथ जनसंपर्क किया। तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव ने भी मीसा के लिए चुनाव प्रचार किया। 2014 के चुनाव में रामकृपाल ने मीसा को हराया था। 

काराकाट: रालोसपा नेता उपेंद्र कुशवाहा 2014 के चुनाव में एनडीए में थे। मोदी लहर में उन्हें जीत मिली थी। इस बार महागठबंधन का हिस्सा हैं। जदयू के महाबली सिंह उन्हें चुनौती दे रहे हैं। कुशवाहा काराकाट के अलावा उजियारपुर से भी चुनाव लड़ रहे हैं। 

बक्सर: बक्सर में भाजपा ने एक बार फिर अश्विनी कुमार चौबे को मैदान में उतारा है। दूसरी तरफ राजद के जगदानंद सिंह हैं। 2014 में अश्विनी कुमार चौबे ने जगदानंद सिंह को हराया था। जगदानंद सिंह बक्सर से एक बार सांसद रह चुके हैं। 

आरा: वामपंथ के गढ़ रहे भोजपुर में भाजपा प्रत्याशी और केंद्रीय मंत्री आरके सिंह को माले के उम्मीदवार राजू यादव कड़ी टक्कर दे रहे हैं। उन्हें राजद का सपोर्ट है। आरके सिंह ने यहां 2014 में जीत दर्ज की थी। 

नालंदा: 23 साल से नालंदा जदयू का गढ़ रहा है। इस बार पार्टी ने यहां से कौशलेन्द्र कुमार को टिकट दिया। हम पार्टी के प्रत्याशी अशोक आजाद के लिए जदयू का गढ़ तोड़ना चुनौती है। 2014 के चुनाव में कौशलेंद्र को जीत मिली थी। वह तीसरी बार चुनावी मैदान में हैं। 

जहानाबाद: 2014 में जहानाबाद से रालोसपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे अरुण कुमार को जीत मिली थी। अरुण ने रालोसपा से अलग होकर अपनी पार्टी बना ली है। इस बार यहां जदयू के चंदेश्वर चंद्रवंशी और राजद के सुरेंद्र यादव के बीच मुकाबला है। बेलागंज के विधायक सुरेंद्र पिछले दो चुनावों में लगातार हार चुके हैं। तेजप्रताप यादव समर्थित उम्मीदवार चंद्रप्रकाश भी उनके लिए चुनौती हैं। 

सासाराम: यहां से कांग्रेस प्रत्याशी और पूर्व लोकसभा स्पीकर मीरा कुमार और भाजपा उम्मीदवार छेदी पासवान के बीच टक्कर है। मीरा कुमार बाबू जगजीवन राम की बेटी और कुशवाहा समाज से आने वाली बिहार की पहली मंत्री सुचित्रा सिंह की बहू हैं। छेदी पासवान ने 2014 में यहां जीत दर्ज की थी।