आगे बढ़ने के लिए लक्ष्य की आवश्यकता होती है-  जय सिंह मरावी
 
शासकीय महाविद्यालय गोहपारू में कैरियर मार्गदर्शन शिविर संपन्न
 
शहडोल । व्यक्ति रोजगार के माध्यम से आगे बढ़ सकता है आगे बढ़ने के लिए लक्ष्य की आवश्यकता होती है कैरियर मार्गदर्शन शासन की बहुत अच्छी योजनाएं हैं इस योजना से निश्चित ही छात्रों को लाभ पहुंचेगा महाविद्यालय द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में सारे विषय के विशेषज्ञ आए हैं छात्र इन विशेषज्ञों को सुनकर उसका लाभ ले और आगे बढ़कर देश का नाम रोशन करें यह कार्यक्रम शासन का बहुत अच्छा है  उक्त आशय के विचार जयसिंह नगर विधानसभा के विधायक जय सिंह मरावी ने मुख्य अतिथि के रूप में शासकीय महाविद्यालय गोहपारू द्वारा  24 जनवरी 2019 आयोजित एक दिवसीय कैरियर मार्गदर्शन शिविर में व्यक्त की कार्यक्रम की शुरुआत स्वामी विवेकानंद की छायाचित्र पर मुख्य अतिथि जय सिंह मरावी, महाविद्यालय के  प्राचार्य एस कुजूर, उत्कृष्ट विद्यालय के प्राचार्य  हर्ष लाल तिवारी ,जनभागीदारी  अध्यक्ष  राजेश गुप्ता, ने माल्यार्पण कर किया उसके पश्चात उत्कृष्ट विद्यालय  के प्राचार्य हर्ष लाल तिवारी ने स्वागत उद्बोधन देते हुए  कहा कि  आज का कार्यक्रम बच्चों के लिए बहुत उपयोगी है कैरियर गाइडेंस के माध्यम से बच्चे अपना भविष्य निर्धारित कर सकते हैं शासन कक्षा 8 से लेकर उच्च शिक्षा तक यह कार्यक्रम चला रही है।  महाविद्यालय के प्राचार्य एस कुजुर ने अपने उद्बोधन में कहा कि आज हमारे बीच मुख्य अतिथि विधायक जय सिंह मरावी  जी जोश और होश भरने के लिए आए हैं यह कैरियर मार्गदर्शन शिविर छात्रों के लिए बहुत ही फायदेमंद है। छात्र बीए और एम ए करने के बाद भी  है यह पूछते है कि उसे क्या करना है वास्तव में छात्र अगर प्रारंभ से ही कैरियर मार्गदर्शन लेता है तो उसे आगे चलकर कोई परेशानी नहीं होती यह  मार्गदर्शन छात्रों को स्कूल के समय ही लेना चाहिए और यह देखना चाहिए कि हमें कौन सा कार्य करने के लिए कौन सा विषय या कोर्स पढ़ना चाहिए  साथ ही साथ रोजगार के लिए भी उसे कंडीशन देखना चाहिए । व्यक्ति को रोजगार के लिए अपनी शारीरिक क्षमता का भी ज्ञान होना चाहिए और से साथ ही  साथ है भी देखना चाहिए कि  जिस रोजगार की ओर जा रहे है उसमे उसे  कितना वेतन मिलेगा,क्या उसमे उसे पेंसन मिलेगी,  कितने घंटे काम करना पड़ेगा । आज लोग कैरियर गाइडेंस के अभाव में अपना समय बर्बाद करते हैं जरूरी यह नहीं कि जो पिता करें  वह पुत्र भी बन सकता है  सभी लोगो की बौद्धिक क्षमता एक सी नहीं होती  व्यक्ति को स्वयं का एनालिसिस भी करना आवश्यक है मेहनत के आगे सफलता अवश्य मिलती है ।जिला उद्योग प्रबंधक सुश्री राधिका   किनकर ने भी  रोजगार संबंधी जानकारी देते हुए बताया कि संसार में सभी चीज संभव है भविष्य में क्या करना है बस इसका निर्धारण करना आवश्यक है व्यक्ति को क्या, क्यों ,कैसे इस बात की जानकारी होना अधिक महत्वपूर्ण है कई लोग किसी भी क्षेत्र में  काम करना चाहते हैं लेकिन क्यों शब्द का जवाब नहीं होता व्यक्ति को दूसरों के लिए कैसे कार्य करें इस बात की जानकारी होना आवश्यक है सरकारी कार्यालय स्वयं के नही होते हैं दूसरों के लिए होते हैं क्या ,क्यों, कैसे के लिए जरूरत होती है मार्गदर्शन की  ।   साथ ही उन्होंने स्वरोजगार के बारे में बताते हुए यह कहां की स्वरोजगार वह चीज है जिसमें व्यक्ति स्वयं का रोजगार करता है सरकार आज रोजगार के लिए पचास हजार से लेकर दो करोड़र रुपये तक का लोन उपलब्ध करा रही है । साथ ही शासकीय उत्कृष्ट  माध्यमिक विद्यालय गोहपारू के  व्याख्याता पी के जाटव ने  स्कूल शिक्षा में रोजगार के अवसर  योग्यता एवं चयन प्रक्रिया तथा प्राचार्य आईटीआई गोहपारू अतुल सोंधिया ने   आईटीआई में पढ़ाए जाने वाले    विभिन्न ट्रेड्स में  योग्यताएं एवं रोजगार की संभावनाएं   विषय पर व बलासेड  क्लीनिक  के संचालक डॉ  टांडी  ने  मेडिकल एवं पैरामेडिकल के क्षेत्र में  रोजगार की संभावनाएं व  इंदिरा गांधी  शासकीय कन्या अग्रणी महाविद्यालय शहडोल के अतिथि विद्वान डॉ अश्वनी द्विवेदी ने उच्च शिक्षा में रोजगार के अवसर योगिता एवं चयन प्रक्रिया पर व   शहडोल के सहायक संचालक कृषि    सुकुमार  मिंज ने  कृषि के क्षेत्र में रोजगार के अवसर  विषयों पर  रोजगार  अपना अपना  उद्बोधन दिया महा विद्यालय व विद्यालय के छात्र, छात्रों ने भी अपने जिज्ञासा को विषय विशेषज्ञ से  प्रश्नों कर  जाना और समझा।कैरियर मार्गदर्शन शिविर को सफल बनाने में महाविद्यालय के अतिथि विद्वान व कर्मचारी दिलीप शुक्ला , सौरभ मदन , पुष्पा पांडे ,संहिता मिश्रा, मोहम्मद अनीश ,आदित्य शुक्ला ,पूजा तिवारी, कु रागिनी गुप्ता ,प्रितेश  शर्मा ,  सुदीप्त चौधुरी ,सुशीला पांडे ,श्रेयांश मिश्रा,पुरन  यादव आदि की सराहनीय भूमिका रही ।